MSRD-Completed

शहतूती रेशम धागाकरण

 

हाल ही में समाप्‍त परियोजनाएं :-

1)     शीर्षक :-  बहुप्रज और द्विप्रज संकर कोसों से अंतर्राष्‍ट्रीय / बेहतर ग्रेड कच्‍चे रेशम के उत्‍पादन के  लिए भारतीय फिलेचर के लिए स्‍वचालित रेशम धागाकरण मशीन का डिजाइन और विकास

इसमें शामिल वैज्ञानिक : सुभाष वि  नायिक, जी हरिराज, बी एम महादेवय्या, जे रामप्‍पा और एम के घोष

परिणाम :- केरेप्रौअसं डिजाइन और तकनीकी विनिर्देशन के अनुसार स्‍वचालित रेशम धागाकरण मशीन का निर्माण सफलतापूर्वक समाप्‍त हुआ। विकसित स्‍वचालित रेशम धागाकरण मशीन पर द्विप्रज संकर कोसों और बहुप्रज कोसों का उपयोग करते हुए धागाकरण की जॉंच की जा रही है। इस विषय में भरपूर प्रचार किया जा रहा है।

2)     शीर्षक :- धागाकरण के दौरान कोसा तंतु उलझन विधि द्वारा नए कच्‍चा रेशम सूत का  उत्‍पादन

इसमें शामिल वैज्ञानिक :- जी हरिराज, सुभाष वि नायिक और बी.एम. महादेवय्या

परिणाम :-मशीन का निर्माण किया गया है। परीक्षण किया गया है और नए सूत को उत्‍पादित और इसकी विशेषता बताई गई है। नए रेशम सूत के उत्‍पादन की कुछ प्रक्रिया मानदण्‍डों का मानकीकरण किया जा रहा है। उत्‍पादित सूतों का उपयोग करते हुए बाना के रूप में वस्‍त्र को विकसित किया गया है और वस्‍त्र का परीक्षण भी किया गया।