Extension_hi

केरेप्रौअसं उप इकाइयां

 

केरेप्रौअसं की उप इकाइयों को व्यापक रूप से तीन शीर्ष अर्थात प्रदर्शन व तकनीकी सेवा केन्द्र (प्रवतसेके), रेशम अनुकूलन व परीक्षण गृह (रेअपगृ) और वस्त्र परीक्षण प्रयोगशालाओं (वपप्र) के अंतर्गत वर्गीकृत किया जा सकता है । प्रवतसे केन्द्रों को अपने कार्य क्षेत्रों में रेशम उत्पादन समूहों की तकनीकी सेवाएं प्रदान करने हेतु अधिदेश है । कोसा गुणवत्ता मूल्यांकन पर बल देकर कार्यविधियों में प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन, प्रौद्योगिकी प्रदर्शिनियां, क्षेत्र अन्योन्य कार्यक्रम गुणवत्ता मूल्यांकन शामिल है । केरेप्रौअसं द्वारा विकसित की गई प्रौद्योगिकियों उप इकाइयों के माध्यम से प्रचारित कर रहे हैं । प्रवतसेके कार्यान्वयन तथा योजना के अनुश्रवण में सम्मिलित है । उनके निरंतर क्षेत्र अन्योन्यक्रिया कार्य प्रथाओं और रेशम उत्पाद की गुणवत्ता सुधारने का परिणाम दिया गया । उन्होने समग्र विकास के लिए धागाकरण, ऐंठन तथा बुनाई इकाइयों को अपनाया है । जहाँ तक संभव है बाजार लिंक प्रदान करने हेतु सहायता तथा उत्पादन इकाइयों के दैनिक समस्याओं को सुलझाने के लिए सहायता दी है । वे इन शहतूती एवं गैर शहतूती क्षेत्र में एक सकारात्मक प्रभाव डालने में सक्षम बन गया ।

रे अ प गृ को कच्चे रेशम एवं ऐंठत रेशम के निर्माताओं और व्यापारियों के बीच गुणवत्ता तथा जागरूकता पैदा करने के अनोखा अधिदेश है । रेअपगृ की परीक्षण सेवाएं उद्योग के व्यापक प्रचार-प्रसार किए हैं । जिसमें जो विपणन बोर्ड, धागाकर, बुनकर, ऐंठनकार एवं व्यापारी सम्मिलित है । परीक्षण रिपोर्ट को समझाया गया गुणवत्ता सुधार के लिए उपचारक उपायों दृष्टिकोण भी प्रदान किया जाता है । ये सेवाएं न्यूनतम शुल्क के आधार पर दी जाती हैं । वर्ष के दौरान बहुत ही उत्पादक तथा खरीदार ने रेअपगृ की सेवाओं का लाभ उठाया है । रेअपगृ की एक शाखा के रूप में, कोसा परीक्षण केन्द्र (सीटीसी) , कच्चा रेशम परीक्षण केन्द्र (करेपके) को यथाक्रम कोसा परीक्षण तथा रेशम परीक्षण के अधिदेश के साथ स्थापना की गई ।

केरेप्रौअसं के वपप्र, रेशम वस्त्रों की भौतिक, रासायनिक और पर्यावरण मानकों का मूल्यांकन करने में उद्योग की जरूरतों को पूरा करने के लिए स्थापित किया गया । मानकों के एक विस्तृत श्रृंखला परीक्षण के लिए सुविधाओं के साथ वपप्र विशेष रूप से आयातक देशों द्वारा पर्यावरण के मापदंडों के संबंध में कठोर आवश्यकताओं को पूरा करने हेतु निर्यात क्षेत्र की बढ़ती मांग को पूरा कर रहे हैं ।

उप इकाइयों का विवरण…..